Happy Dhanteras 2022

Happy Dhanteras 2022: धनतेरस के दिन धन के राजा कुबेर की पूजा की जाती है. इसी दिन आयुर्वेद के पिता कहे जाने वाले भगवान धन्वंतरि का जन्म हुआ था. इस त्योहार पर लोग सोना-चांदी, बर्तन, वाहन, भूमि की खरीदारी करते हैं. शॉपिंग के लिए धनतेरस का दिन अबूझ मुहूर्त होता है. इस शुभ अवसर पर आप भी मां लक्ष्मी और कुबेर से अपनों से जीवन में सुख-समृद्धि की कामना करें

धनतेरस क्यों मनाते हैं, क्या है धनतेरस की कहानी

शास्त्रों में वर्णित कथाओं के अनुसार, समुद्र मंथन के दौरान भगवान धन्वंतरि हाथों में अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। जिस तिथि को भगवान धन्वंतरि समुद्र से निकले, वह कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि थी। भगवान धन्वंतरि समुद्र से कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परंपरा चली आ रही है। भगवान धन्वंतरि को विष्णु भगवान का अंश माना जाता है और इन्होंने ही पूरी दुनिया में चिकित्सा विज्ञान का प्रचार और प्रसार किया। भगवान धन्वंतरि के बाद माता लक्ष्मी दो दिन बाद समुद्र से निकली थीं इसलिए उस दिन दीपावली का पर्व मनाया जाता है। इनकी पूजा-अर्चना करने से आरोग्य सुख की प्राप्ति होती है।

धनतेरस की पौराणिक कथा

एकबार मृत्यु के देवता यमराज ने यमदूतों से प्रश्न किया कि क्या कभी मनुष्य के प्राण लेने में तुमको कभी किसी पर दया आती है। यमदूतों ने कहा कि नहीं महाराज, हम तो केवल आपके दिए हुए निर्देषों का पालन करते हैं। फिर यमराज ने कहा कि बेझिझक होकर बताओं कि क्या कभी मनुष्य के प्राण लेने में दया आई है। तब एक यमदूत ने कहा कि एकबार ऐसी घटना हुई है, जिसको देखकर हृदय पसीज गया। एक दिन हंस नाम का राजा शिकार पर गया था और वह जंगल के रास्ते में भटक गया था और भटकते-भटकते दूसरे राजा की सीमा पर चला गया। वहां एक हेमा नाम का शासक था, उसने पड़ोस के राजा का आदर-सत्कार किया। उसी दिन राजा की पत्नी ने एक पुत्र को जन्म भी दिया।

ज्योतिषाचार्यों ने की भविष्यवाणी

ज्योतिषों ने ग्रह-नक्षत्र के आधार पर बताया कि इस बालक की विवाह के चार बाद ही मृत्यु हो जाएगी। तब राजा ने आदेश दिया कि इस बालक को यमुना तट पर एक गुफा में ब्रह्मचारी के रूप में रखा जाए और स्त्रियों की परछाईं भी वहां तक नहीं पहुंचनी चाहिए। लेकिन विधि के विधान को कुछ और ही मंजूर था। संयोगवश राजा हंस की पुत्री यमुना तट पर चली गई और वहां राजा के पुत्र को देखा। दोनों ने गन्धर्व विवाह कर लिया। विवाह के चार दिन बाद ही राजा के पुत्र की मृत्यु हो गई। तब यमदूत ने कहा कि उस नवविवाहिता का करुण विलाप सुनकर हृदय पसीज गया था। सारी बातें सुनकर यमराज ने कहा कि क्या करें, यह तो विधि का विधान है और मर्यादा में रहते हुए यह काम करना पड़ेगा।

यमराज ने बताया उपाय

यमदूतों ने पूछा कि ऐसा कोई उपाय है, जिससे अकाल मृत्यु से बचा जा सके। तब यमराज ने कहा कि धनतेरस के दिन विधि विधान के साथ पूजा-अर्चना और दीपदान करने से अकाल मृत्यु नहीं होती। इसी घटना की वजह से धनतेरस के दिन भगवान धन्वंतरि और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है और दीपदान किया जाता है।

Happy Dhanteras 2022 Date and Time

Happy Dhanteras 2022 Date and Time: धनतेरस का त्योहार जीवन में समृद्धि, सौहाद्र, सुख, संपत्ति, लेकर आता है. पांच दिन के दिवाली उत्सव की शुरुआत धनत्रयोदशी से होती है और भाई दूज पर समाप्ति. इस साल धनतेरस 22 और 23 अक्टूबर 2022 को है.

Happy Dhanteras 2022: इस बार धनतेरस की पूजा 22 अक्टूबर को की जाएगी. माना जाता है कि धनतेेरस के दिन जो भी चीजें खरीदी जाए, वो चीजें साल भर घर में बरकत लाती हैं. धनतेरस के दिन भगवान धनवंतरी की पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. ऐसी कौन सी चीजें और कार्य है, जो कि करने चाहिए

बर्तनधनतेरस के दिन बर्तन खरीदने की भी परंपरा है, लेकिन अधिकतर लोगों को ये पता नहीं होता कि किस धातु के बर्तन खरीदें. अगर आपको इसमें संदेह है तो आप पीतल के बर्तन खरीद लीजिए और इसे अपने घर की पूर्व दिशा में रखें
निवेशधनतेरस के दिन निवेश करना बड़ा ही शुभ माना जाता है. इस दिन धन से संबंधित जो भी कार्य किए जाते हैं, वो सब पूरे होते हैं और साथ ही शुभ फल भी प्राप्त होता है. आप चाहें तो इस दिन किसी म्यूचुअल फंड में भी निवेश कर सकते हैं, उससे भी लाभ प्राप्त होगा
चांदीइस दिन चांदी खरीदना भी बेहद शुभ माना जाता है. दरअसल, चांदी को चंद्रमा का प्रतीक माना जाता है. चंद्रमा मन को शांति और शीतलता देती है. इसलिए, इस दिन मन को शांत रखने के लिए कोई भी चांदी की चीज खरीद सकते हैं
दीपदानधनतेरस पर यम देवता के लिए दीपदान करने का खास महत्व होता है. धनतेरस की शाम को मुख्य द्वार 13 दीप जलाने चाहिए. इस दिन मुख्य दीपक रात को सोते समय जलाया जाता है. और ये दीप दक्षिण दिशा में ही जलाना चाहिए. दरअसल, दक्षिण दिशा यम की दिशा कहलाती है. 
गोमती चक्र सेहतमंद और संपन्नता के लिए धनतेरस के दिन 11 गोमती चक्र खरीदने चाहिए. धनतेरस पर गोमती चक्र को पीले वस्त्र में बांधकर अपनी तिजोरी या लॉकर में रख दें
सोलह श्रृंगार का सामान धनतेरस के दिन शादीशुदा महिलाओं को श्रृंगार का तोहफा देना शुभ माना जाता है. इसके अलावा लाल रंग की साड़ी और सिंदूर देना भी अच्छा होता है.
कैसे करें भगवान धनवंतरी की पूजाघर की उत्तर दिशा में भगवान धनवंतरी का अमृत कलश लिए हुए एक पोस्टर लगाना है. उसके सामने एक पानी का कलश भरकर रखना चाहिए. उसके ऊपर एक दिया जलाना चाहिए. इसके साथ आप भगवान धनवंतरी के मंत्रों का जप करें
मंत्र (Mantra)ऊं नमो भगवते वासुदेव: धनवंतराये:
अमृतकलश हस्ताय सर्व भयविनाशाय सर्व रोगनिवारणाय
त्रिलोकपथाय त्रिलोकनाथाय श्री महाविष्णुस्वरूप 
श्री धनवंतरी स्वरूप श्री श्री श्री औषधचक्र नारायणाय नम: ।।

इस मंत्र का 108 बार जप करना चाहिए. जप के बाद लोटे का जल सब घर वालों को देना चाहिए. इनकी पूजा से आपको निरोगी काया का आशीर्वाद प्राप्त होगा.  
झाड़ूइस दिन झाड़ू खरीदना बहुत शुभ माना जाता है. शास्त्रों में झाड़ू को माता लक्ष्मी का प्रतिरूप माना गया है

धनतेरस के दिन ना करें झाड़ू से जुड़ी ये गलतियां

  • धनतेरस के दिन खरीदी गई झाड़ू का भूलकर भी तिरस्कार नहीं करना चाहिए. ध्यान रहे कि इस दिन खरीदी गई झाड़ू पर आप गलती से भी पैर ना मारें. माना जाता है कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं. 
  • धनतेरस पर खरीदी गई झाड़ू कभी भी खाली घर में नहीं लानी चाहिए. घर में लाने से पहले झाड़ू की हैंडल पर एक सफेद रंग का धागा जरूर बांध लें. माना जाता है कि इससे मां लक्ष्मी  घर में स्थिर बनी रहती हैं.
  • धनतेरस के दिन कभी भी सिर्फ एक झाड़ू खरीद कर घर ना लाएं. ना ही दो या चार के जोड़े में झाड़ू खरीदें. इस दिन एक साथ तीन झाड़ू खरीदना बहुत शुभ माना जाता है. 
  • इस दिन लाई गई झाड़ू को कभी भी खुला ना रखें. माना जाता है कि इससे घर में कलह होती है. इसलिए धनतेरस के दिन लाई हुई झाड़ू को हमेशा ढककर रखना चाहिए.
  • धनतेरस के दिन नई झाड़ू लाएं लेकिन पुरानी झाड़ू ना फेकें. धनतेरस के दिन शाम में पुरानी झाड़ू की पूजा करें. इसके बाद नई झाड़ू की भी पूजा करें और घर में सुख-समृद्धि की प्रार्थना करें.
  • पुरानी झाड़ू को भूलकर भी बिस्तर के नीचे या फिर किचन में नहीं रखना चाहिए. पुरानी झाड़ू में काला धागा बांधकर किसी ऐसी जगह छिपाकर रख दें जहां लोगों की नजर ना पड़े. इससे आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं करती है. 

Happy Dhanteras 2022 Status: 

धनतेरस (Dhanteras) का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है. यह कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है. इस बार धनतेरस 22 और 23 अक्टूबर यानी दो दिन मनाया जा रहा है. दरअसल, 22 अक्टूबर को त्रयोदशी तिथि लग रही है और यह 23 अक्टूबर को समाप्त होगी. 

 देवी महालक्ष्मी और कुबेर देव आप पर अपनी कृपा बरसाएं
आपको और आपके परिवार को धनतेरस की बहुत-बहुत बधाई
Happy Dhanteras 2022

मां लक्ष्मी की कृपा से आपकी सारी चिंताएं दूर हो जाएं
धनतेरस आपके घर में ढेर सारा प्यार, समृद्धि और खुशियां लाए
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं! 
Happy Dhanteras 2022

दीप जले तो रोशन आपका जहां हो
पूरा आपका हर इक अरमां हो
मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहे आप पर
इस धनतेरस पर आप बहुत धनवान हों
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं! 
Happy Dhanteras 2022

धनतेरस की शुभकामनाएं

बढ़े आपका कारोबार
मिले आपको खुशियां अपार
मां लक्ष्मी आए आपके द्वार
मुबारक हो आपको धनतेरस का त्योहार
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं! 
Happy Dhanteras 2022

दिनों दिन बढ़ता जाए आपका कारोबार
परिवार में बना रहे स्नेह और प्यार,
होती रहे सदा आप पर धन की बौछार
ऐसा हो आपका धनतेरस का त्योहार
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं!
Happy Dhanteras 2022

जीवन में आपके खुशियां बेशुमार हों
ईश्वर करे अच्छा आपका व्यापार हो,
मां लक्ष्मी का आप पर पूरा आशीर्वाद हो
इतना प्यारा धनतेरस अबकी बार हो
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं! 
Happy Dhanteras 2022

ॐ श्रीं ह्रीम दरिद्र विनाशनि
धनधान्य समृद्धि देहि,
देहि कुबेर शंख विध्ये नम:
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं! 
Happy Dhanteras 2022

धनतेरस का शुभ दिन आया सबके लिए नई खुशियां लाया
लक्ष्मी-गणेश विराजे घर में सदा रहे सुखों की छाया.
Happy Dhanteras 2022

मां लक्ष्मी की कृपा बरसे, जीवन में खुशियां छलके.
धनवंतरी का वास रहे, सुख समृद्धि बनी रहे.
धनतेरस की शुभकामनाएं.

दिनों दिन बढ़ता जाए आपका कारोबार, परिवार में बना रहे स्नेह व प्यार
आप पर होती रहे सदा धन की बौछार, ऐसा हो आपका धनतेरस का त्योहार
Happy Dhanteras 2022

इस धनतेरस कुछ खास हो, दिलों में खुशियां, घर में सुख का वास हो.
हीरे-मोती से सजा आपका ताज हो, मिट जाएं दूरियां सब आपके पास हो..
Happy Dhanteras 2022

आपके घर में धन की बरसात हो, लक्ष्मी क वास हो
संकटों का नाश हो, शान्ति का वास हो
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं.

सोने का रथ, चांदी की पालकी बैठकर जिसमें है लक्ष्मी मां है आयी
देने आपके परिवार को धनतेरस की बधाई, धनतेरस की शुभकामनाएं.

धनतेरस का प्यारा त्योहार, जीवन में आपके लाए खुशियां अपार
माता लक्ष्मी विराजे आपके द्वार, सभी मनोकामनाएं हो आपकी स्वीकार
Happy Dhanteras 2022

खुशियां बेशुमार हो, अच्छा आपका व्यापार हो
मां लक्ष्मी का आशीर्वाद हो, इतनी प्यारी धनतेरस आपकी हर बार हो
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं.

लक्ष्मी जी कृपा आप पर और
आपके समस्त परिवार पर बनी रहे
Happy Dhanteras 2022

दीप जले तो रोशन आपका जहान हो, आपका पूरा हर एक अरमान हो.
कुबेर, मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहे इस धनतेरस पर खूब धनवान हो..
Happy Dhanteras 2022

ॐ शंखं चक्रं जलौकां दधदमृतघटं चारुदोर्भिश्चतुर्मिः।
सूक्ष्मस्वच्छातिहृद्यांशुक परिविलसन्मौलिमंभोजनेत्रम।।
कालाम्भोदोज्ज्वलांगं कटितटविलसच्चारूपीतांबराढ्यम।
वन्दे धन्वंतरिं तं निखिलगदवनप्रौढदावाग्निलीलम।।
धनतेरस 2022 की हार्दिक शुभकामनाएं।

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों में दिए गए जानकारियों पर आधारित है. मेरा मकसद सिर्फ सूचना पहुंचाना है. GoldSilverReports.com इस खबर की पुष्टि नहीं करता है.

Happy Dhanteras
  • Save
Copy link